कविता"अनजान रास्ते "


ये कैसे हैं अनजान रास्ते 
जिस ओर हम हैं बढ़े चले
लगता है डर कहीं बीच में
ये साथ हमारा ना छूट ले

आँधी भी है तूफान भी है
और आग का दरिया भी है
दुआ है अब खुदा से यही 
इन सबको पार कर सकें
ये कैसे हैं अनजान रास्ते 
जिस ओर हम हैं बढ़े चले

खुशियाँ कम और गम भरकर हैं
यहाँ रहना आंसू पीकर है
दुआ है अब खुदा से यही
कि हम तो फौलाद बन सकें
ये कैसे हैं अनजान रास्ते 
जिस ओर हम हैं बढ़े चले
लगता है डर कहीं बीच में
ये साथ हमारा ना छूट ले

9 comments:

  1. धन्यवाद लौकेश जी

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी ये रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 21 जुलाई 2017 को लिंक की गई है...............http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. सूचना देने के लिए धन्यवाद श्वेता जी ।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  5. आभार विनोदजी |

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  7. आभार , सुधाजी और अनामिकाजी |

    ReplyDelete